How to cure food poisoning fastHow to cure food poisoning fast

हमें अपने शरीर को ऊर्जान्वित  रखने के लिए भोज्य और पेय दोनों पदार्थ की आवश्यकता होती है। इनके बिना शरीर को संचालित करना मुमकिन ही नहीं है। परन्तु किसी भी भोज्य या पेय पदार्थ का बिना स्वच्छता के ध्यान दिए गलत रूप से प्रयोग करना (How to cure food poisoning fast) हानिकारक साबित हो सकता है। यदि सही मात्रा में इनका प्रयोग न किया जाए तो इससे अनेको समस्याएं उत्पन्न हो सकती है जिनमे से एक है विषाक्त भोजन |

फूड पोइज़निंग (food poisoning) क्या होता है

फूड पोइज़निंग (Food poisoning)  पेट से संबंधित एक संक्रमण है। यह संक्रमण एक स्टैफिलोकोकस(Staiphilokokas) नामक बैक्टीरिया है, जो वायरस या अन्य जीवाणुओ के कारण हो सकता है। वायरस या अन्य जीवाणु भोजन द्वारा पेट में जाकर समस्या उत्पन्न करते है। सामान्यत: ये समस्या कुछ ही दिनों में ठीक हो जाती है। बच्चो या बुर्जुगो का रोग प्रतिरोधक छमता कम होने के कारण उनके सेहत पर इसका ज्यादा बुरा असर पड़ता है। इस बीमारी को घर पर रहते  हुए कुछ ही दिनों में घरेलु उपचार द्वारा ठीक किया जा सकता है। यदि इसके प्रति लापरवाही की गई तो भविष्य में अनेको समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। यह समस्या असंतुलित आहार और गलत जीवन शैली अपनाने के कारण हो सकती है।

फूड पोइज़निंग के लक्षण (Symptoms of food Poisoning)

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि फूड पॉइजन (Food poison) की समस्या क्या और क्यों होती है। आए अब हम इसके लक्षण, परहेज, घरेलू उपचार (How to cure food poisoning fast), और योग के बारे में चर्चा करते हैं

अक्सर ऐसी अनेको समस्याएं होती है जिनके लक्षण का पता लगाना थोड़ा मुश्किल होता है। परन्तु इस बीमारी के साथ ऐसा नहीं है। इस समस्या के बहुत से लक्षण है, जो आसानी से पहचाने जा सकते हैं।

फूड पोइज़निंग के कारण (Food poisoning cause)

हर बीमारी का कोई न कोई कारण जरूर होता है, उसी तरह विषाक्त भोजन के भी अनेक कारण है। अगर हमें कारण के बारे में पता चल जाए तो उसे आसानी से खत्म या और भी ज्यादा गंभीर होने से रोका जा सकता है।

फूड पोइज़निंग के घरेलु उपाय ( How to cure food poisoning fast)

How to cure food poisoning fast

फूड पोइज़निंग (medicine for food poisoning) के लिए बाजार में बहुत सी दवाईया है। लेकिन उनके साइड इफेक्ट (Side effect) भी बहुत होते हैं। इसलिए जरूरी है कि हम अपनी बीमारियों का इलाज आयुर्वेद के घरेलु उपाय से करें। तो आए कुछ घरेलु उपाय जानते हैं, जिनकी मदद से हम फूड पोइज़निंग को ठीक कर सकते हैं।

सेब के सिरके से करें विषाक्त भोजन का घरेलु उपाय

सेब के सिरके का प्रयोग करने के लिए गर्म पानी में सेब का सिरका मिलाकर उसका सेवन करे। इसमें पाए जाने वाला एल्कलाइन शरीर के मेटाबोलिज्म (Metabolism)  को एक्टिव रखता है। यह पेट के बैक्टीरिया से भी लड़ने में मदद करता है।

ताजी दही के मदद से करें इलाज

अपनी समस्या दूर करने के लिए आप एक कटोरी में ताजी दही ले। और उसमे 4 से 5 तुलसी के पत्ते, काली मिर्च और हल्का सा नमक मिलाकर इसका सेवन करे। इसमें प्रयोग की गई तुलसी के पत्तो में कई औषधीय गुण सूक्ष्म जीवो से लड़ने में मदद करते हैं।

लहसून है फूड प्वाइजनिंग का रामबाण इलाज

फूड पॉइजनिंग की समस्या होने पर आप लहसून का प्रयोग कर सकते हैं। इसका  प्रयोग करने के लिए आप सबसे पहले लहसून के छिलके को हटा लें । फिर लहसुन का सेवन सुबह खाली पेट चबा-चबाकर एक गिलास हल्का गरम पानी के साथ करें।

नीबू से करें विषाक्त भोजन की समस्या दूर

नीबू  का प्रयोग करने के लिए एक चम्मच  चीनी के साथ एक नीबू के रस का प्रयोग करें। अगर आप चाहें तो इसे गरम कर पतला कर ले, फिर इसका सेवन करें। नींबू को उपचारो का बादशाह माना जाता है। इसमें  एंटी इन्फ्लेमेट्री, एंटी वायरस, जीवाणु रोधक छमता का भरपुर भंडार पाया जाता है।

केले से करें अपनी समस्या का निवारण

फूड पोइज़निंग की समस्या से राहत पाने के लिए आप दिन में दो से तीन पके हुए केले का सेवन करें। यदि आप चाहें तो बनाना शेक (banana shek) बनाकर उसका सेवन कर सकते हैं। केला पोटैशियम, फाइबर से भरपुर होता है तथा यह food poison के लिए भी बहुत फायदे मंद होता है।

पुनर्जलीकरण मिश्रण

इसका सेवन करने के लिए सबसे पहले एक लीटर पानी में दो चम्मच  ताजा नींबू का रस मिला लें। फिर चीनी और स्वादानुसार नमक मिला लें । अगर आप चाहें तो शहद  (honey) का भी प्रयोग कर सकते हैं। अब आपका मिश्रण तैयार है।इसे दिन में 5-6 बार पियें।

मुझे उम्मीद हैं, फूड पॉइजनिंग (How to cure food poisoning fast) में यह लेख काफी मददगार रहेगा, यह  जानकारी आपको कितनी मददगार लगी, और किस विषय पर आप जानकारी चाहते हैं कमैंट्स करके जरूर बताएं

4 thoughts on “How to cure food poisoning fast-Philogics”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *